Skip to Content

Languages

विवेकानन्द केन्द्र : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर ‘सामूहिक योगाभ्यास’ तथा रक्तदान

International Yoga Day Nagpurविवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी, शाखा नागपुर के द्वारा नगर के प्रसिद्ध अम्बाझरी तलाव के तट पर स्वामी विवेकानन्द स्मारक परिसर में “अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह’ सम्पन्न हुआ। इस अवसर पर व्यासपीठ पर बतौर मुख्य अतिथि कर्नल विपिन वैद्य, विवेकानन्द केन्द्र के विदर्भ विभाग श्री आनंद बगड़िया तथा केन्द्र के नागपुर सहनगर संचालक प्रोफेसर डॉ. विलास देशपांडे विराजमान थे। इस दौरान कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कर्नल विपिन वैद्य ने अपने संक्षिप्त भाषण में कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिन प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदीजी की पहल पर शुरू हुआ। इसका जो ‘लोगो’ है वह विश्व को मानवता तथा शांति का सन्देश देता है और अपनेआप को जानने की प्रेरणा देता है। उन्होंने कहा कि शरीर, मन तथा चित्त की शुद्धि के लिए योग को अपनाना होगा। यह केवल व्यायाम नहीं है वरन यह जीवन दृष्टि है। अपने जीवन को निरामय, पवित्र तथा ध्येयगामी बनाने की प्रेरणा योग से मिलती है। इसलिए विश्वभर में निर्विरोध योग की मान्यता है। प्रकृति के साथ विकास यह हमारी योगमय जीवन की संकल्पना है। कर्नल वैद्य ने कहा कि हम सभी नियमित सूर्यनमस्कार-योगासन-प्राणायाम कर स्वयं को स्वस्थ रखें, तभी हम देशकार्य के कर्तव्य को सफलतापूर्वक निभा सकेंगे।

इस अवसर पर कुल 208 नागरिकों ने सामूहिक योगाभ्यास तथा सूर्यनमस्कार किए। युवाओं को आह्वान किया कि आज अधिकाधिक सूर्यनमस्कार करें। इस आह्वान पर 35 बालकों तथा युवाओं ने 72 सूर्यनमस्कार किए, वहीं 17 युवाओं ने 50 सूर्यनमस्कार अर्पित कर स्वामी विवेकानन्दजी का अभिवादन किया। साथ ही इस अवसर पर डॉ.हेडगेवार रक्तपेढ़ी के प्रमुख श्री अशोक पत्की के आह्वान पर युवाओं ने रक्तदान किए। संत श्री गजानन महाराज मंदिर के ट्रस्टी श्री नारखेडेजी के सहयोग से मंदिर परिसर में रक्तदान किया गया।

इससे पहले कार्यक्रम की प्रस्तावना देते हुए केन्द्र के सहनगर संचालक तथा विएनआईटी कॉलेज के प्रोफेसर डॉ. विलास देशपांडे ने नागरिकों को केन्द्र कार्य से जुड़ने का आह्वान किया। कार्यक्रम की शुरुवात में कु.अश्विनी काले ने प्रार्थना ली, पश्चात् वंदिता मेलग ने “बनें हम राष्ट्र के योगी” गीत प्रस्तुत किया, वहीं कु.तोषिता मुरुगकर, कु.सम्पदा खिरवडकर, कु.सार्थता देशपांडे तथा कु.गायत्री वैद्य ने ‘विवेक वाणी’ कहकर स्वामी विवेकानन्द का सन्देश सुनाया। केन्द्र के युवा सहप्रमुख अश्विन अयंगार ने सूर्यनमस्कार का संचालन किया, वहीं कु. श्रुति टोळ तथा कु.वैदेही पाठक ने योगाभ्यास का संचालन तथा प्रात्यक्षिक किया। कार्यक्रम का सम्पूर्ण संचालन मंदार देव ने किया तथा केन्द्र की सह नगर प्रमुख सौ. क्षमा दाभोळकर ने आभार व्यक्त किया।