Skip to Content

Languages

Himachal Pradesh

स्वामी विवेकानंद के विचारों की प्रासांगीकता आज भी : प्रबुद्ध गोष्ठी

14/08/2013 14:30
Asia/Calcutta

विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी, शाखा शिमला एवं भाषा एवं संस्कृति विभाग, हिमाचल प्रदेश द्वारा संगोष्ठी का आयोजन किया जा रहा है।

विषय : स्वामी विवेकानंद के विचारों की प्रासांगीकता आज भी

वक्ता : माननीय रेखादीदी, संयुक्त महासचिव, विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी

स्थान : हिमाचल प्रदेश संग्रहालय सभागृह, चौडा मेदान, शिमला-171004

समय : 14th अगस्त 2013 दोपहर 2:30 बजे

गुरु पूर्णिमा उत्सव : शिमला

Guru%20Poornima%20at%20RadhaKrishna%20Temple%2C%20Nabha%20by%20Vivekananda%20Kendra%20Shimla-2013 विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी शिमला शाखा द्वारा गुरु पूर्णिमा का उत्सव दिनांक २२-जुलाई-२०१३, सोमवार सायं ६ बजे, राधा-कृष्ण मंदिर, नाभा एस्टेट, शिमला मे मनाया गया।

गुरू पूर्णिमा उत्सव : शिमला

22/07/2013 18:00
22/07/2013 19:00
Asia/Calcutta

विवेकानन्द केंद्र कन्याकुमारी शिमला शाखा द्वारा गुरु पूर्णिमा का उत्सव दिनांक २२-जुलाई-२०१३, सोमवार सायं ६ बजे, राधा-कृष्ण मंदिर, नाभा एस्टेट, शिमला मे मनाया जा रहा है। आईए हमारी संस्कृति की मुल धरोहर गुरु-शिष्य परंपरा का महातम्य समजने के साथ ही समाज में प्रतिष्ठित करें।

सर्वतोभद्रमंडल यज्ञ : शिमला

23/06/2013 10:01
Asia/Calcutta

विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी शाखा शिमला के छत निर्माण कार्यके समापन के अवसर पर "सर्वतोभद्

वैचारिक गोष्ठी : "आदर्श समाज व्यवस्था"

07/04/2013 17:00
Asia/Calcutta

वैचारिक गोष्ठी

"आदर्श समाज व्यवस्था"

वक्ता : मा. रेखादिदि, संयुक्त महासचिव, विवेकानन्द केन्द्र, कन्याकुमारी

समय : सायं ५ से ६, रविवार, अप्रैल ७, २०१३

हिमाचल में स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं जयंती

vivekanand-2

12 January 2013 Shimla - स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं जयंती हिमाचल में श्रद्धा एवं धूमधाम से मनाई गई। 12 जनवरी का दिन था और प्रदेष के विभिन्न भागों में वन्दे मातरम्, भारत माता की जय और नन्द के आन्नद की, जय विवेकानन्द की के नारों गूंज उठा।

स्वामी विवेकानंद का जीवन प्रेरणास्त्रोत

13 January 2013 - पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि हिंदुत्व का प्रतिनिधित्व करने वालों को कुछ लोग सांप्रदायिक की संज्ञा देते है। लेकिन लोग जो भी कहें सभी धर्म और समाज एक है।

Syndicate content