Skip to Content

Languages

Ajmer

चरित्र निर्माण एवं त्यागवृत्ति से ही विश्वबंधुत्व संभव

स्वामी विवेकानन्द के शिकागो धर्मसम्मेलन में प्रथम उद्बोधन की वर्षगांठ पर विश्वबंधुत्व दिवस का अजमेर में आयोजन किया गया। विश्वबंधुत्व की संकल्पना को केवल चरित्र की उच्चता एवं त्यागवृत्ति के आचरण से ही साकार किया जा सकता

Gurupurnima at Ajmer

Gurupurnima was celebrated by Vivekananda Kendra workers at various places in Ajment on July 12.On program was held in Shiva Temple near Vivekananda Kendra office.

Samskar Varga Shivir - Camp at Ajmer

17/05/2014 06:00
24/05/2014 17:00
Asia/Calcutta

Venue : Sahid Maheshwari Adarsh Vidhya Mandir, Bhajanganj, Ajmer

March April Highlights from Rajasthan Pradesh

Holi milan program of 53 Karyakarta at Jaipur with Ma. Swami Yogananagthirthji. The program is followed by discussion on Ramayana. Varsharambha Ceremony of 50 children at Bhilvara followed by Tilak program. Special Yoga Satra (Session) for 22 doctors in Ajmer. Interview was taken of 32 Young teachers ready to join schools of Vivekananda Kendra Vidyalaya in Arunachal pradesh.

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी : शाखा अजमेर

विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर अपने नए भवन में स्थापित

Gruh Praveshअजमेर २९ अप्रैल ! विवेकानंद केंद्र अजमेर शाखा अपने पुराने भवन जोकि श्रीनगर रोड स्थित प्रताप ऑटो मोबाइल के ऊपर स्थित था अब अपने नए भवन शिव मंदिर के पास, नई बस्ती भजन गंज में स्थानांतरित हो गया है.

उक्त नवीन भवन के उद्घाटन कार्यक्रम का शुभारम्भ प्रातः काल कलश यात्रा के साथ हुआ जिसमे प्रान्त संघटक रचना एवं श्री गायत्री महिला मंडल भजन गंज अजमेर की श्रीमती सुधा डोगरा के नेत्रत्व में ३१ महिलाओ की कलश यात्रा निकाली गई

"एकाक्षरम्" - गृह प्रवेश : अजमेर

28/04/2012 19:00
29/04/2012 14:00
Asia/Calcutta
विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी की अजमेर शाखा के नूतन कार्यालय भवन "एकाक्षरम्" में गृह प्रवेश कार्यक्रम वैशाख शुक्ला अष्टमी रविवार, दिनांक २९ अप्रेल २०१२ को विधिविधान अनुसार सम्पन्न होगा। इस पुनीत अवसर पर आपकी उपस्थिति सादर प्रार्थनीय है।


शनिवार : २८ अप्रेल २०१२

सुन्दरकाण्ड पाठ : सायं ७ बजे से

''संस्कृति रेणु'' साहित्य प्रदर्शनी का स्वागत : अजमेर

Renu Literary Culture Exhibition reception Ajmerअजमेर में लोगों संस्कृति रेणु के प्रति भारी उत्साह, ३००० से अधिक लोगों ने दो दिनों में साहित्य प्रदर्शनी का अवलोकन किया।

ईश्वर को प्राप्त करने के लिए संसार में अनेकानेक मार्ग हैं किंतु वेदान्त में ईश्वर कहता है कि कोई भी किसी भी मार्ग से मुझे भजे उसमें ही वह विलीन हो जाता है। स्वामी विवेकानन्द अपने समय से पूर्व के न केवल भारत अपितु सारे विश्व के समस्त दार्शनिकों, संतों, विचारकों की आभा जो समस्त मानवजाति का कल्याण करने के लिए कार्यरत है, को प्रकट करने वाले दिव्य रत्न हैं। रंग, लिंग, जाति, वर्ण, भाषा, भूषा तथा प्रान्त की बात नहीं, इन सभी से उपर उठकर प्रत्येक मनुष्य के भीतर परमात्मा के अंश का प्रकटीकरण का प्रयास करने वाला कोई दूसरा रत्नशिरोमणि विवेकानन्द के अलावा इस संसार में दूसरा कोई नहीं है।

स्वयं से स्पर्द्धा ही धारणक्षम विकास का मूलमंत्र

अध्यात्म प्रेरित समाजिक संगठन विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी शाखा अजमेर के द्वारा दिनांक १२ जनवरी २०१२ को सांय ५:३० बजे होटल आराम, वैशाली नगर, अजमेर में स्वामी विवेकानन्द जयन्ती समारोह पूर्वक मनाई गई। इस कार्यक्रम में मुख्य वक्ता पूर्व सीएमएचओ डॉ.

Syndicate content